किस्मतें

किस्मतें

हया कहूँ की अदा लिखूं

इश्क है तू , या वफ़ा लिखूं

शायर की शायरी समझूँ

या कवी की कविता लिखूं

मिलन की आस है कोई

या किस्मतें अपनी जुदा लिखूं |

Leave a Reply