प्यार

प्यार

मैखाना और जाम

अजी इनसे अपना क्या काम,

चेहरा, लब और रुखसार

ये सब भी फानी है ,

गर हो सच की जुस्तजू में

तो झांको कभी रूह में,

तुम कर न बैठी प्यार

तो बस बेकार मेरी जवानी है |

Leave a Reply